World Thrift Day Shayari Status Quotes Wishes Message Slogans Image in Hindi

 World Thrift Day Shayari Status Quotes Wishes Message Slogans Image in Hindi – विश्व बचत दिवस हर साल 31 अक्टूबर को मनाया जाता है. लेकिन भारत में इसे 30 अक्टूबर को मनाया जाता है क्योंकि 31 अक्टूबर को स्वर्गीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की मौत हुई थी.

World Saving day shayari, World Saving quotes, world drift day



वर्ल्ड थ्रिफ्ट डे ( विश्व बचत दिवस ) का मुख्य उद्देश्य व्यक्ति, परिवार, देश की बचत और वित्तीय सुरक्षा को बढ़ावा देना है. बचत की आदत एक बहुत ही अच्छी आदत है. बच्चे, जवान, बूढ़े, स्त्री, पुरूष सबको बचत के फायदें के बारें में बताना चाहिए ताकि वे बचत करें. उन पैसों से बिज़नस करें. परिवार के सदस्यों को अच्छी शिक्षा दें और अच्छे स्वास्थ्य के लिए व्यय करें.


वर्तमान समय में युवा बेवजह का खर्च करते है जिसकी वजह से अच्छी बचत नही हो पाती है. अगर कभी दुर्भाग्य वश नौकरी छूट गई या बिज़नस में पैसा डूब गया तो अवसाद ग्रस्त और निराश हो जाते है. इसलिए पैसे के महत्व को समझना चाहिए और बचत करनी चाहिए. बुरे समय में धन सबसे आवश्यक वस्तु बन जाती है. दिखावे पर पैसा नही खर्च करना चाहिए. लोग प्रभावित तो होते है पर समझते है कि सामने वाला दिखावा कर रहा है.


World Thrift Day Shayari in Hindi
World Thrift Day Shayari in Hindi
World Thrift Day Shayari in Hindi | World Thrift Day 2020

बच्चों को इस तरह से पालना चाहिए,

उनमें पैसे बचाने की आदत डालना चाहिए.


जो बचत की आदत का मजाक बनाते है,

मुसीबत में दूसरों के सामने हाथ फैलाते है.


आज की बचत आपके बुढ़ापे की दवाई है,

बहुत लोगो को ये बात बुढ़ापे में समझ आई है.


पैसे की बचत को अपनी ताकत बनायें,

आपको विश्व बचत दिवस की शुभकामनायें


World Thrift Day Status in Hindi
World Thrift Day Status in Hindi
World Thrift Day Status in Hindi | World Thrift Day 2020

दोस्तों याद रखना जीवन में आगे बढ़ना है,

तो खर्चों को कम और बचत को बढ़ाना है.


बेवजह के ख्वाब मत पालिए,

पैसे की कीमत को जानिए.


फ़िजूल खर्चों को दो लगाम,

जीवन को दो नया आयाम.


World Thrift Day Quotes in Hindi

जिन लोगो में बचत करने की आदत होती है,

वो कम कमाकर भी ज्यादा खुश होते है. और

जिनमें बेवजह खर्च करने की आदत होती है

वे ज्यादा कमाकर भी दुखी और निराश होते है.


आज कल के युवा कमाते ज्यादा है लेकिन

बचाते कम है. कुछ दशक पहले युवा कमाते कम थे

लेकिन बचाते ज्यादा थे. दिखावे के चक्कर में न पड़े.

औकात कपड़ो से नही शिक्षा से बढ़ती है.


बचत करने का विचार जब मन में चलता है

तो बचत करने के कई तरीके मिल जाते है.